1. Home
  2. /
  3. Goverment Schemes/Yojana
  4. /
  5. स्त्री स्वाभिमान योजना के...

स्त्री स्वाभिमान योजना के तहत महिलाओं को दिए जाते सस्ते दामों पर सेनेटरी नैपकिन

भारत की महिलाओं को आत्मनिर्भर और स्वस्थ बनाने के लिए केंद्र सरकार ने स्त्री स्वाभिमान योजना की शुरुआत की। इसे केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 27 जनवरी 2018 को प्रारंभ किया था। योजना के अंतर्गत गांव और शहरों में रहने वाली गरीब महिलाओं व लड़कियों को सस्ते दामों व निःशुल्क सेनेटरी नैपकिन उपलब्ध करवाना है। साथ ही उन्हें रोजगार के साथ साधन भी देना है, ताकि वो अपना गुजर-बसर बेहतर ढंग से कर सकें।

स्त्री स्वाभिमान योजना का उद्देश्य

स्त्री स्वाभिमान योजना का उद्देश्य महिलाओं को सशक्त, आत्मनिर्भर और बीमारियों से मुक्त बनाना है। इसके तहत ग्रामीण क्षेत्र के उद्यमियों और एसएचजी ( स्वयं सहायता समूह) को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके जरिए सेनेटरी नैपकिन की यूनिट लगाई जाएगी। उससे महिलाओं व लड़कियों को सस्ते दामों पर सेनेटरी पैड उपलब्ध करवाए जाएंगे। योजना के जरिए लड़कियों को पीरियड्स के दौरान स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं और होने वाली बीमारियों से बचाव के बारे में भी कैंपों में बताया जाएगा।

 

सिर्फ गांव व शहरों की गरीब महिलाएं ही इस योजना का लाभ ले सकती हैं। इसके अतिरिक्त, पात्र महिलाएं ही सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से कम दरों पर सेनेटरी नेपकिन ले सकेंगी।

ये भी पढ़ें महिला सम्मान सेविंग योजना में 2 साल निवेश की अवधि और रिटर्न 7.5 प्रतिशत का, मौका जानें ना दें

महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • वोटर आईडी कार्ड
  • निवास प्रमाण-पत्र
  • राशन कार्ड

राज्यवार स्थिति

राज्य सैनिटरी नैपकिन वितरण
अंडमान निकोबार 3
आंध्र प्रदेश 803
अरुणाचल प्रदेश 7
असम 553
बिहार 2601
चंडीगढ़ 05
छत्तीसगढ़ 315
दादरा एंड नगर हवेली 02
दमन-दीप 02
दिल्ली 340
गोवा 05
गुजरात 605
हरियाणा 611
हिमाचल प्रदेश 132
जम्मू-कश्मीर 148
झारखंड 676
कर्नाटक 745
केरल 247
मध्य प्रदेश 1440
महाराष्ट्र 1970
मणिपुर 67
मेघालय 37
मिजोरम 17
नागालैंड 30
ओडिशा 801
पुदुचेरी 10
पंजाब 524
राजस्थान 997
सिक्किम 5
तमिलनाडु 660
तेलंगाना 350
त्रिपुरा 86
उत्तर प्रदेश 4102
उत्तराखंड 289
वेस्ट बंगाल 1622
इस प्रकार करें रजिस्ट्रेशन
  • सर्वप्रथम आवेदन करने वाली महिला को कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) की वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट का होम पेज खुलकर आएगा, जहां सीएससी वीएलई रजिस्ट्रेशन पर टैप करना होगा।
  • फिर नया पेज खुलेगा, जहां एप्लाई के विकल्प पर जाकर न्यू रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करना होगा।
  • सामने आए नए पेज पर एप्लीकेशन टाइप, टीसीई सर्टिफिकेट नंबर, मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड को भरना होगा।
  • फिर सबमिट बटन पर क्लिक कर दें और आपकी पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।
इस प्रकार करें चेक करें आवेदन की स्थिति
  • सर्वप्रथम आवेदन करने वाले को कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) की वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट का होम पेज खुलकर आएगा, जहां सीएससी वीएलई रजिस्ट्रेशन पर टैप करना होगा।
  • फिर नया पेज खुलेगा, जहां एप्लाई के विकल्प पर जाकर चेक एप्लिकेशन स्टेटस पर क्लिक करना होगा।
  • सामने आए नए पेज पर एप्लीकेशन रिफ्रेंस नंबर, कैप्चा कोड भरना होगा।
  • फिर सबमिट बटन पर क्लिक कर दें और अगले पेज पर आवेदन की स्थिति सामने आ जाएगी।
महत्वपूर्ण बातें
  • योजना के अंतर्गत स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को पंजीकरण करवाना जरूरी है।
  • इसके जरिए महिलाओं व लड़कियों को मासिक धर्म के दौरान सस्ते दामों पर सेनेटरी पैड मिल सकेंगे।
  • गांव की महिलाओं द्वारा सेनेटरी नैपकिन बनाने के लिए छोटी-छोटी इकाइयां स्थापित की जाएंगी।
  • महिलाओं को सेनेटरी नेपकिन के साथ कैंप में स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां भी दी जाएंगी।
  • महिलाओं को योजना के अंतर्गत रोजगार दिया जाएगा।
  • योजना का लाभ शहरी व ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं व लड़कियां ले सकती हैं।
  • योजना के तहत सेनेटरी नैपकिन स्थानीय ब्रांड के नाम से बेचा जाएगा और इसको बेचने का काम वीएलई (गांव स्तर की आंत्रप्रेन्योर) द्वारा किया जाएगा।
  • इसके जरिए 35,000 महिलाओं को आजीविका दी जाएगी।
  • सेनेटरी नैपकिन की यूनिट में प्रतिदिन 750 से 1000 नैपकिन बनाए जाएंगे।
  • विद्यालय में पढ़ने वाली लड़कियों को निःशुल्क सेनेटरी नैपकिन उपलब्ध करवाए जाएंगे।
  • सैनिटरी नैपकिन सीएएससी केंद्रों से भी ले सकते हैं।

Leave a Comment