1. Home
  2. /
  3. Uncategorized
  4. /
  5. भारत सरकार गर्भवती और...

भारत सरकार गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को दे रही है 5000 रुपये का लाभ

भारत सरकार देश की गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को कुपोषण से बचाने के लिए प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (PMMVY) लेकर आई है। इसके तहत लाभ की राशि सीधे गर्भवती महिलाओं के खाते में पहुंचेगी।

इसके लिए महिलाओं को कुछ जानकारियों के साथ दस्तावेज जमा करने होंगे। पीएमएमवीवाई के क्या फायदे हैं और योजना के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे किया जाए, इन सभी चीजों की विस्तारपूर्वक हम आपको जानकारी देंगे। योजना का लाभ उठाने के लिए पूरा लेख पढ़ें।

2017 में पीएम नरेंद्र मोदी ने की थी शुरुआत

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 जनवरी 2017 को की थी। यह योजना महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा संचालित की जा रही है। इसका दूसरा नाम प्रधानमंत्री गर्भावस्था सहायता योजना है। योजना के अंतर्गत गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को सरकार की ओर से आर्थिक सहायता दी जाती है। 5000 रुपये की राशि मां बनने वाली महिलाओं को तीन अलग-अलग किश्तों में दी जाती है।

पहली बार मां बनने पर ही मिलता है लाभ

योजना के अंतर्गत 5000 रुपये की राशि का लाभ पहली बार मां बनने पर ही मिलता है। यह भारत के सभी राज्यों की महिलाओं के लिए लागू है। इसके लिए महिलाएं पंजीकरण करा सकती हैं। इसका पंजीकरण ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से होता है।

आवश्यक दस्तावेज

  • आवेदन फॉर्म 1 A
  • एमसीपी कार्ड की कॉपी
  • पहचान प्रमाण की कॉपी
  • बैंक/डाकघर की पासबुक की कॉपी
  • आवेदक और उसके पति द्वारा हस्ताक्षर की हुई एक सहमति

ऑफलाइन आवेदन इस तरह करें

  • प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में ऑफलाइन आवेदन करने के लिए सर्वप्रथम आपको अपने निकटतम स्वास्थ्य केंद्र या फिर आंगनबाड़ी केंद्र पर जाना होगा।
  • वहां पर इस योजना का आवेदन पत्र लेना होगा।
  • आवेदन फॉर्म में मांगे जाने वाले सभी दस्तावेजों को स्व-अभिप्रमाणित करके उसे उसके साथ संलग्न करना होगा।
  • सभी दस्तावेजों और आवेदन फॉर्म को वहीं पर जमा करना होगा और उसकी रसीद प्राप्त करनी होगी।

ऑनलाइन आवेदन इस प्रकार करें

प्रथम चरणः-

  • प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में ऑनलाइन आवेदन करने के लिए सर्वप्रथम आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट के होम पेज पर जाना होगा।
  • उसके बाद आपको Beneficiary Login का विकल्प मिलेगा, जिस पर क्लिक करना होगा।
  • आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा, जहां पर For Registering New User Click Here का विकल्प मिलेगा।
  • वहां क्लिक करने पर आपके सामने इसका रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा।
  • रजिस्ट्रेशन फॉर्म को भरना होगा।
  • अंत में आपको सबमिट के विकल्प पर जाकर उसे दबाना होगा। इसके बाद आपको लॉगिन आईडी और पासवर्ड मिल जाएगा, जिसे संभालकर रखना होगा।

द्वितीय चरणः-

  • पोर्टल पर सफलतापूर्वक अपना पंजीकरण करने के बाद आपको वहीं Beneficiary Login पर क्लिक करना होगा। आपके सामने इसका लॉगिन पेज खुलेगा, जिसमें सभी जानकारियों को दर्ज करके लॉगिन करना होगा।
  • लॉगिन के बाद आपके सामने डेशबोर्ड खुलेगा।
  • अब इस पेज पर New Beneficiary पर क्लिक करना होगा।
  • आपके सामने फिर से आवेदन फॉर्म खुलेगा।
  • पूरा आवेदन फॉर्म आपको ध्यान से भरना होगा।
  • मांगे जाने वाले सभी दस्तावेजों को ध्यान से अपलोड करना होगा और बैंक खाते की जानकारी देनी होगी।
  • अंत में सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा और इसकी आपको रसीद मिल जाएगी। उसका प्रिंट आउट व सभी मांगे जाने वाले दस्तावेजों को स्व-अभिप्रमाणित करके अपने निकटतम आंगनबाड़ी केंद्रों पर जमा करवाना होगा।

तीन किश्तों में मिलेगा लाभ

किश्त मिलने वाला लाभ
पहली किश्त एलएमपी (अंतिम मासिक धर्म) के 150 दिनों के भीतर गर्भावस्था के पंजीकरण के बाद 1000 रुपये की सहायता दी जाती है।
दूसरी किश्त गर्भावस्था के 6 माह पूर्ण होने पर कम से कम एक बार प्रसव पूर्व जांच (एएनसी) कराने के बाद 2000 की सहायता राशि दी जाती है।
तीसरी किश्त जन्म पंजीकरण एवं नवजात शिशु के टीकाकरण के उपरांत 2000 की सहायता राशि दी जाती है।

 

योजना के लिए यहां पर देखें अपना नाम

इस सूची में जिन महिलाओं का नाम शामिल होता है, उन्हें योजना का लाभ मिलता है। wcd.nic.in की आधिकारिक वेबसाइट के अंतर्गत जारी की गयी सूची में अपना नाम गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं देख सकती हैं।

ये भी पढ़ें,

 

DA में 4 प्रतिशत की बढ़ोतरी, मार्च की सैलिरी में मिलेगा 2 महीने का एरियर भी

Leave a Comment